Rating:

Sapanon Ki Neeli Si Lakeer

240.00 (as of July 19, 2018, 1:38 pm) 228.00

सपनों की नीली-सी लकीर एक वर्जित फल खाने पर ‘आदम’ और ‘हव्वा’ को जन्नत से निकाल दिया गया था । इस इतिहास को मैंने एक नज्म में लिखा : “एक

Usually dispatched within 1-2 business days

Quantity

सपनों की नीली-सी लकीर एक वर्जित फल खाने पर ‘आदम’ और ‘हव्वा’ को जन्नत से निकाल दिया गया था । इस इतिहास को मैंने एक नज्म में लिखा : “एक शिला थी और एक पत्थर, जिन्होंने वर्जित फल खा लिया, और जब मैली जमीन पर वो पत्थरों की सेज पर सोये तो उन पत्थरों की टक्कर से आग की एक लपट-सी पैदा हुई–बदन में से आग का जन्म हो गया तो पत्थर भी कांप गया, शिला भी कांप गई । समाज की नजर का धुआं ही उनके पास था, उसी की घुट्टी उस आग को दे दी तो पवन की छाया हंसने लगी—फिर शिला और पत्थर धरती के हवाले हुए और आग की लपट पवन के हवाले और मैं आग की लपट-सी हैरान थी कि मेरे भीतर से यह सपनों के नीली-सी लकीर कहां से निकलती है” यह उस नीली-सी लकीर का तकाजा था कि मैं हर कल्पना को धरती पर उतार लेना चाहती थी–अपनी कलम से भी और अपने कर्म से भी । – अमृता प्रीतम

Author

Binding

CatalogNumberList

EAN

EANList

ISBN

ItemDimensions

Languages

NumberOfPages

ProductGroup

ProductTypeName

PublicationDate

Related Products